UTTARAKHAND NEWS

Big breaking :-शारदा रेंज के सेनापानी वन चौकी में वन आरक्षी की गोली लगने से संदिग्ध परिस्थितियों में हुई मौत

– शारदा रेंज के सेनापानी वन चौकी में वन आरक्षी की गोली लगने से संदिग्ध परिस्थितियों में हुई मौत.। मंगलवार को हल्द्वानी वनप्रभाग के कलोनिया चौकी में तैनात वन आरक्षी की सेनापानी चौकी में गोली लगने से संदिग्ध परिस्थितियों में दर्दनाक मौत हो गयी l

 

 

मृतक के शव को टनकपुर के उपजिला चिकित्सालय लाया गया, जहां शव का पंचनामा भर पोस्टमार्टम के बाद शव परिजनों के सुपुर्द किया गया, मामले की जांच बनबसा पुलिस द्वारा की जा रही है l अस्पताल में वन महकमे की एसडीओ ममता चंद, रेंजर पूरन चंद्र जोशी के अलावा तमाम वन कर्मी और पुलिस प्रशासन के लोग मौजूद रहे l वहीं परिजनों द्वारा मामले की उच्च स्तरीय जांच की मांग की जा रही है ल

 

 

 

प्राप्त जानकारी के अनुसार हल्द्वानी वन प्रभाग में तैनात वन बीट अधिकारी की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हो जाने का मामला प्रकाश में आया है। वन कर्मी की मौत की खबर से परिजनों का रो-रो कर बुरा हाल है। बताया जा रहा है कि वन कर्मी की मौत 315 बोर के तमंचे से गोली लगने की वजह से हुई है। मामला सुसाइट का है या मर्डर का इस पर संशय बना हुआ है l वन कर्मी का शव उसके सरकारी आवास से बरामद हुआ है। गोली कैसे चली इसको लेकर फिलहाल कोई जानकारी सामने नहीं आ रही है। मृतक नैनीताल जिले के चोरगलिया का रहने वाला है जो शारदा रेंज की कलोनिया वन चौकी में तैनात बताया जा रहा है
पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार हल्द्वानी वन प्रभाग के कलोनिया में तैनात वन बीट अधिकारी 35 वर्षीय हरीश चंद्र जोशी पुत्र प्रकाश चंद्र जोशी का शव 27 फरवरी की सुबह सेनापानी चौकी में मिला l मौत की खबर लगने से परिवार में मातम छा गया। मृतक के परिजनो ने इस मामले में उच्च स्तरीय जांच की मांग की है।
जबकि हल्द्वानी वनप्रभाग की एसडीओ ममता चंद ने कहा कि वन आरक्षी फॉरेस्ट गार्ड हरीश जोशी कलौनिया चौकी में तैनात था। वनकर्मी की मौत के मामले में उनकी टीम के द्वारा घटनास्थल का निरीक्षण किया गया है। साथ ही स्थानीय पुलिस को मामले की सूचना दी गई है। उन्होंने कहा घटना के कारणो का पोस्टमार्टम रिपोर्ट के बाद ही पता चल सकेगा। फिलहाल मामले की विभागीय और पुलिस के स्तर से गहनता से जांच की जा रही है l बताते चले मृतक का अप्रेल में विवाह होना था, मधुर और हंसमुख स्वाभाव के वन कर्मी की संदेहास्पद परिस्थिति में हुई मौत से उनके सहकर्मी खासे आहत है, वहीं परिजनों द्वारा मामले की उच्चस्तरीय जांच की मांग की जा रही है।

 

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

To Top