उत्तराखंड

Big breaking :-अब टाइगर देखना है तो राजाजी नेशनल पार्क आएं,टाइगर ट्रांसलोकेशन परियोजना के तहत अभी तक इतने आएं टाइगर

टाइगर ट्रांसलोकेशन परियोजना के अन्तर्गत भारत सरकार की अनुमति उपरांत कार्बेट टाइगर रिजर्व से बाधों को लाकर राजाजी टाइगर रिजर्व में छोड़े जाने की कार्यवाही विगत कुछ वर्षों से की जा रही है जिसके कम में अभी तक एक नर बाघ व दो मादा बाघ राजाजी टाइगर रिजर्व लाए गये हैं।

 

दिनांक 24 दिसम्बर 2020 को एक मादा बाघ दिनांक 09 जनवरी 2021 को एक नर बाध तथा दिनांक 16 मई 2023 को एक मादा बाघ को सफलतापूर्वक ट्रांसलोकेट किया गया है। टाइगर ट्रांसलोकेशन कार्य की श्रंखला में दिनांक 07.03.2024 को कार्बेट टाइगर रिजर्व की बेला रेंज में एक मादा बाघ को ट्रैकुलाइज किया गया। इस मादा बाघ को लाने के बाद ट्रांसलोकेटेड बाघों की कुल संख्या 04(01 नर व 03 मादा) हो गयी है।

 

 

उक्त मादा बाघ को दिनांक 11.03.2024 को रेस्क्यू सेन्टर बेला से राजाजी टाइगर रिजर्व की मोतीचूर रेंज में केन्द्रीय चिड़ियाघर प्राधिकरण द्वारा निर्धारित Protocols for transportation of wild animals (2012) तथा एन०टी०सी०ए० द्वारा समय-समय पर निर्धारित एस०ओ०पी० के अन्तर्गत नियमानुसार परिवहन कर सकुशल लाया गया। उक्त मादा बाघ की आयु लगभग 06 वर्ष है तथा मादा बाध पूर्ण रूप से स्वस्थ है। मादा बाघ पर मॉनिटरिंग हेतु रेडियो कॉलर लगायी गयी है।

 

 

टाइगर ट्रांसलोकशन का कार्य डा० दुष्यन्त शर्मा, वरिष्ठ पशु चिकित्साधिकारी, कार्बेट टाइगर रिजर्व एवं डा० अमित ध्यानी, वरिष्ठ पशु चिकित्साधिकारी, हरिद्वार वन प्रभाग, हरिद्वार के तकनीकी निर्देशन में किया गया। उक्त ट्रांसलोकेटेड मादा बाघ को दिनांक 12.03.2024 को प्रात 1000 बजे मोतीचूर रेंज स्थित टाइगर बाड़े में छोड़ा गया था।

आज दिनांक 15.03.2024 को उमा मादा बाघ को माननीय वन मंत्री उत्तराखण्ड सरकार, श्री सुबोध उनियाल जी द्वारा श्री अनूप मलिक प्रमुख वन संरक्षक (हॉफ), डा० समीर सिन्हा, प्रमुख वन संरक्षक (वन्य जीव)/ मुख्य वन्यजीव प्रतिपालक उत्तराखण्ड, श्री विवेक पांडेय, अपर प्रमुख वन संरक्षक (वन्यजीव) निदेशक राजाजी टाइगर रिजर्व श्री महातिम यादव उप निदेशक राजाजी टाइगर रिजर्व की राजीव तलवार
अवैतनिक वाइल्ड लाइफ वार्डन R T R की उपस्थिति में प्राकृतिक आवास में छोडा गया। बाध की निगरानी हेतु 24 घंटे व सदस्यीय मॉनिटरिंग टीम को लगाया गया है। जो सैटेलाइट एंटीना एवं कैमरा ट्रैप के माध्यम से बाध की गतिविधि पर नजर बनाए रखेगी।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

To Top