UTTARAKHAND NEWS

Big breaking :-विनायकधार-कस्बीनगर ( गैरसैंण, चमोली ) मार्ग निर्माण का माननीय मुख्यमंत्री ने लिया संज्ञान, भाजपा नेता सतीश लखेड़ा ने की मुख्यमंत्री धामी से मुलाकात

 

*विनायकधार-कस्बीनगर ( गैरसैंण, चमोली ) मार्ग निर्माण का माननीय मुख्यमंत्री ने लिया संज्ञान*

*मुख्यमंत्री जी ने सचिव लोक निर्माण को शीघ्र कार्य निष्पादन के दिए आदेश*

*भाजपा नेता सतीश लखेड़ा ने की मुख्यमंत्री धामी से मुलाकात*

*प्रशासन आंदोलनकरियों से संवाद कर आंदोलन स्थगित करने की करेगा अपील*

भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय मीडिया पैनलिस्ट सतीश लखेड़ा ने माननीय मुख्यमंत्री श्री पुष्कर सिंह धामी जी से विनायकधार – कस्बीनगर मोटर मार्ग विकासखंड गैरसैंण – थराली (जिला चमोली) के शीघ्र निर्माण एवं आंदोलनरत ग्रामीणों को ठोस आश्वासन देकर आंदोलन स्थगित करने के संबंध में भेंट की।

सतीश लखेड़ा ने कहा कि जनपद चमोली के दूरस्थ क्षेत्र के दो विकासखंड गैरसैंण और थराली को मोटर मार्ग से जोड़ने के लिए कई दशकों से मांग की जा रही है। स्थानीय नागरिकों द्वारा बार-बार पूर्ववर्ती सरकारों से प्रत्यावेदन किया गया। स्वयं उन्होंने भी 2021 में स्थानीय नागरिकों के साथ उस क्षेत्र का भौगोलिक निरीक्षण कर निकट से देखा, देहरादून आकर सड़क निर्माण समिति संयोजक ठाकुर शयन सिंह नेगी जी के साथ मुख्यमंत्री श्री धामी जी को क्षेत्रीय जनता का निवेदन पत्र सौंपा, मुख्यमंत्री जी ने तत्काल प्रमुख सचिव लोक निर्माण विभाग को आदेशित किया। स्थानीय स्तर पर राजस्व, लोक निर्माण और वन विभाग की विभिन्न प्रक्रियाओं के बाद फाइल आगे बढ़ी भी किंतु अपेक्षित समय में एनजीटी की प्रक्रिया तक नहीं पहुंच पाई।

सतीश लखेड़ा ने कहा कि मात्र 4.5 किलोमीटर का यह लंबित मार्ग अगर बन जाता है तो स्थानीय जनता को 140 किलोमीटर लंबे फेरे से मुक्ति मिलेगी। जनता का धन और समय दोनों बचेगा। गैरसैंण विकास खंड की दूरस्थ खनसर घाटी के विद्यार्थियों के लिए महाविद्यालय तलवाड़ी गैरसैंण की अपेक्षा निकट होगा।

सतीश लखेड़ा ने माननीय मुख्यमंत्री जी को अवगत कराया कि फाइल गैरसैंण और थराली के राजस्व विभाग, वन विभाग, लोक निर्माण विभाग के अतिरिक्त डीएफओ केदारनाथ वनप्रभाग और बद्रीनाथ वनप्रभाग के बीच में लंबे समय से घूम रही थी, मुश्किल से यह अब निर्माण की विभागीय प्रक्रिया में अपलोड हुई है। यही कारण है कि खनसर घाटी के नागरिक पुनः अनशन पर बैठ गए हैं।

मुख्यमंत्री जी से अनुरोध किया गया कि अनशन स्थल बर्फीली ठंडक का क्षेत्र है। जहां टेंट के भीतर अनशनकारी और क्षेत्रीय नागरिक निर्जन वन में बैठकर आंदोलन कर रहे हैं। स्थानीय जनता स्थानीय जनप्रतिनिधि, संघर्ष समिति के पदाधिकारियों की भावनाओं के साथ अपना निवेदन सम्मिलित करते हुए आपसे प्रार्थना है कि संवेदनशील तरीके से इस मार्ग निर्माण की चिंता की जाए। यह मार्ग स्थानीय नागरिकों की सुविधा की दृष्टि से सामरिक दृष्टि से और पर्यटकों की सुविधा की दृष्टि से बहुत महत्वपूर्ण है।

मुख्यमंत्री जी ने आश्वस्त किया कि प्रशासन आंदोलनकार्यों से संवाद आंदोलन स्थगित करने की अपील करेगा और विभागीय प्रक्रियाओं को समयबद्ध तरीके से पूर्ण करके सड़क निर्माण की कार्रवाई आगे बढ़ेगी।

 

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

To Top